लोकसभा के लिये दूसरी बार अखिलेश और सुब्रत होंगे आमने सामने

मई 12, 2024 - 20:31
लोकसभा के लिये दूसरी बार अखिलेश और सुब्रत होंगे आमने सामने

0 सोमवार को लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के लिये होना है मतदान।

0 तीन जिलों के 19 लाख 82 हजार 589 मतदाता इस बार 15 प्रत्याशियों के लिये करेंगे मतदान।

0 वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में भी आमने सामने थे अखिलेश और सुब्रत, जिसमें अखिलेश बने थे सांसद, दूसरे नंबर पर बीएसपी के महेश वर्मा और तीसरे नंबर पर रहे थे सुब्रत पाठक।

0 इस बार 2024 के चुनाव में सपा और बीजेपी के बीच हो सकता है कांटे का मुकाबला।

द स्वार्ड ऑफ इंडिया

कन्नौज । लोकतंत्र का महापर्व अब कुछ ही घंटों में शुरू हो जायेगा। इस बार कन्नौज संसदीय सीट पर जहां सपा और बीजेपी में कांटे का मुकाबला देखने को मिल सकता है। इस बार अपने पुराने गढ़ कन्नौज में अखिलेश की जीत जहां प्रतिष्ठा का प्रश्न बन चुकी है,

 वहीं सुब्रत की जीत उनका कद अखिलेश के सामने प्रदेश नहीं बल्कि देश में बढ़ा सकती है, इतना ही नहीं अगर सुब्रत चुनाव जीतते हैं, तो निश्चित तौर पर यह कहा जा सकता है कि, बीजेपी हाईकमान सुब्रत के लिये कुछ बड़ा सोंच सकती है।

फिलहाल अभी कुछ भी कहना नाकाफी होगा। कल संपन्न होने वाले मतदान और उसके बाद मतगणना के बाद ही तस्वीर साफ होने का इंतजार करना होगा।

बता दें कि, कन्नौज संसदीय सीट के लिये इस बार भी पहले की तरह तीन जिलों जिनमें कन्नौज सहित कानपुर देहात और औरैया के मतदाता भी मतदान करेंगे और कन्नौज से अपना नया सांसद चुनेंगे।

 कन्नौज जिले में जहां तीन विधानसभाएं तिर्वा, कन्नौज, और छिबरामऊ, के मतदाता अपना नया सांसद चुनेंगे वहीं कानपुर देहात की रसूलाबाद और औरैया जिले की बिधूना के मतदाता भी कन्नौज का नया सांसद चुनने में अपनी अहम भूमिका निभाएंगे।

इस बार कन्नौज संसदीय सीट के लिये दावेदारी करने वालों में सबसे पहले नाम सपा से अखिलेश यादव का आता है। जिन्होंने एक बार फिर 12 साल बाद अपने गढ़ कन्नौज को बचाने के लिये कन्नौज से चुनावी मैदान में अपनी ताल ठोंकी है।

वहीं इस बार के लोकसभा चुनाव में अन्य प्रत्याशियों में पिछले चुनाव में अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल को 12 हजार से कुछ अधिक मतों से हराने वाले पूर्व सुब्रत पाठक मैदान में हैं। 

हांलाकि अगर पिछले चुनाव में गौर करें तो सुब्रत पाठक का मुकाबला वर्ष 2009 के चुनाव में अखिलेश से हो चुका है। जिसमें अखिलेश को जीत हांसिल हुईं थी और उन्हें 3,37, 751वोट मिले थे।

दूसरे स्थान पर बीएसपी के महेश वर्मा जिनको 2,21,887 बोट मिले थे। जबकि सुब्रत को 1,50, 872 वोट मिले थे, और करारी हार भी। सुब्रत तीसरे स्थान पर रहे थे। यह अलग बात है, कि परिस्थितियां बदली हैं और इस बार एक बार फिर अखिलेश और सुब्रत आमने सामने हैं। इस चुनाव में दोनों के बीच कांटे का मुकाबला भी देखने को मिल सकता है।

अब बात करें, अन्य 13 प्रत्याशियों की, जिनमें बीएसपी से इमरान बिन जफर,राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी से आलोक यादव, भारतीय कृषक दल से प्रमोद कुमार यादव, भाकिसान परिवर्तन परती से शैलेंद्र कुमार, भारतीय शक्ति चेतना पार्टी से सुनील कुमार, आल इंडिया फारवर्ड ब्लाक से सुभाष चंद्र, राष्ट्रीय क्रांति पार्टी से ललित कुमारी, के अलावा अन्य निर्दलीय प्रत्याशियों में इरफान अली,पुरुषोत्तम, भानु प्रताप सिंह, यादवेंद्र किशोर, राज कठेरिया, और सिनोद कुमार इस बार लोकसभा चुनाव के लिये मैदान में हैं।

अब बात करें मतदाताओं की, तो कन्नौज लोकसभा क्षेत्र की कन्नौज विधानसभा के 429234 मतदाता, तिर्वा से 380782 मतदाता,छिबरामऊ से 477065 मतदाता, रसूलाबाद से 328976 मतदाता, के अलावा बिधूना विधानसभा के 366532 मतदाता कुल 19,82,589, मतदाता कन्नौज संसदीय सीट के अंतर्गत आने के कारण अपना नया सांसद चुनेंगे।

कल 13 मई को चतुर्थ चरण के अंतर्गत कन्नौज मे मतदान होना है। जिले में बनाये गये 1519 बूथों में 280 बूथों पर माइक्रो आब्जर्वर भी तैनात किये गये हैं। यह मतदान केंद्र पर खामियों को पकड़ेंगे।

कुछ भी हो, साल 2024 का यह चुनाव काफी रोमांचक होने वाला है जिसमें मतदाता अपनी अहम भूमिका निभाएंगे।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow