कई दौर की हुई वार्ता के बाद भी सी-टू-प्लस फिफ्टी फार्मूला और स्वामी नाथन की रिपोर्ट को आज तक लागू नही किया

किसानों को रोकने के लिये आँसू गैस, लाठी चार्ज और गोली का बल पूर्वक प्रयोग कर घायल कर के लहू बहा दिया

फ़रवरी 22, 2024 - 18:53
कई दौर की हुई वार्ता के बाद भी सी-टू-प्लस फिफ्टी फार्मूला और स्वामी नाथन की रिपोर्ट को आज तक लागू नही किया

एम अंसारी

लखनऊ । लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चैधरी सुनील सिंह आज गुरुवार को लखनऊ मे लोकदल के केंद्रीय कार्यालय माल एवेन्यू मे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि देश का किसान अपना हक माँगने के लिये जब दिल्ली कूच किया तो केंद्र एवं राज्य की सरकारें किसानों को रोकने के लिये आँसू गैस, लाठी चार्ज और गोली का बल पूर्वक प्रयोग कर घायल कर के लहू बहा दिया।

कई दौर की हुई बात चीत के बाद भी सी-टू-प्लस फिफ्टी फार्मूला और स्वामी नाथन की रिपोर्ट को आज तक लागू नही किया। जिससे यह जाहिर होता है कि केंद्र सरकार किसान विरोधी है।

श्री सिंह बताया कि चैधरी चरण सिंह जी को केंद्र सरकार ने जो भारत रत्न दिया है चैधरी साहब उस रत्न से भी बहुत बड़े रत्न थे। जो गाँव की घास, फूस की मिट्टी में जन्म लेकर गरीब और किसानों का तारणहार बने।

गाँव व गरीब के लिये अपना पूरा जीवन समर्पित करते हुये किसानों के मसीहा बने। जबकि उन्होने स्वतन्त्रता संग्राम से लेकर प्रधानमंत्री तक का संघर्ष सुशील सफर तय किया।

वे चैधरी चरण सिंह ही थे जिन्होने देश में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ सबसे पहले आवाज बुलंद की और आह्वान किया कि भ्रष्टाचार का अंत ही, देश को आगे ले जा सकता है।

सन 1980 मे जिस लोकदल की स्थापना चैधरी चरण सिंह ने की थी उस विचारधारा को सहेज कर किसानों के हक की लड़ाई लड़ने का काम लोकदल कर रहा है। 

उन्होने कहा कि आज देश और विभिन्न राज्य की सरकारें भ्रष्टाचार में आकन्ठ डूबी हुई है। जन हित की सरकारी योजनाएं वोट बैंक को बचाने तक सिमट कर रह गई है।

 सत्तालोलुप आरएलडी के जयंत चैधरी एक सौदागर बन गए है और जयंत की पार्टी लोकदल नहीं है अब नाम लेना बन्द करें। जयंत जी आप जहां भी जाये वह चैधरी साहब की विचारधारा थी किसानों को आगे बढ़ना न कि किसानों के भविष्य पर संकट में खड़ा करना। आप नाती जरूर है लेकिन वारिस नहीं।

पत्रकार वार्ता में किसानों पर हो रहे अत्याचार पर भी उन्होने कहा है कि किसानो के साथ सरकार फेल है सिन्धु बार्डर मानो भारत पाकिस्तान का बार्डर बनकर रह गया है। आज इस महौल में यदि चैधरी साहब जीवित होते तो भारत रत्न लेने से मना कर देते।

 सरकार को आडे हाथों लेते हुए श्री सिंह ने कहा कि किसान को 6 हजार की खैरात नहीं उनका हक देने की गारण्टी दे। जिस दिन सरकार गारण्टी दे देगी उस दिन किसान उल्टा सरकार को 6 हजार रूपये देने में सक्षम हो जायेगा।

पत्रकार वार्ता में आगामी चुनाव को लेकर सुनील सिंह ने कहा है कि देश में अब चुनाव आयोग नहीं बचा है जो निष्पक्ष चुनाव करा सके, और उन्होनें ईवीएम पर भी सवाल उठाया है। इस वार्ता में प्रमुख रुप से राष्ट्रीय प्रवक्ता जयराम पान्डेय, श्री इकबाल अन्सारी प्रदेश अध्यक्ष अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow