ड्रग्स के डिटेक्शन, नेटवर्क का विनाश, दोषियों के डिटेंशन

मोदी जी के नेतृत्व और अमित शाह के मार्गदर्शन में नशामुक्त भारत आने वाली पीढ़ियों को महानतम सौगात है।

मार्च 4, 2024 - 21:39

द स्वार्ड ऑफ इंडिया   

नशे की लत के शिकार लोगों के rehabilitation के माध्यम से नशामुक्त भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रही है मोदी सरकार : शाह

लखनऊ : केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने रविवार को ड्रग्स के कारोबार और उसके खतरे से निपटने में मोदी सरकार की सफलता के बारे में तीन वीडियो जारी किए। मोदी सरकार देश में ड्रग्स के डिटेक्शन, नेटवर्क का विनाश, दोषियों के डिटेंशन और नशे की लत के शिकार लोगों के पुनर्वास के माध्यम से नशामुक्त भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रही है। मोदी जी के नेतृत्व और अमित शाह के मार्गदर्शन में नशामुक्त भारत आने वाली पीढ़ियों को महानतम सौगात है।

आजादी के अमृतकाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कठोर अप्रोच और केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह के कुशल मार्गदर्शन में नशे के कारोबार पर लगाम कसने की तैयारी ज़ोर-शोर से चल रही है,

जिसके कारण गिरफ्तारियों की संख्या और ज़ब्त की जाने वाली ड्रग्स की मात्रा में वृद्धि हुई है। शाह की सशक्त नीतियों के कारण आज सरकारों और एजेंसियों के बीच समन्वय, सहयोग और harmony से देशभर में एक सशक्त एंटी-नारकोटिक्स तंत्र का निर्माण हुआ है और इस रणनीति से पकड़े जाने वाली ड्रग्स के मामलों में बढ़ोतरी हुई है।

मोदी जी के नेतृत्व और अमित शाह के मार्गदर्शन में ड्रग्स के अवैध कारोबार पर लगाम लगाने के लिए गृह मंत्रालय की ओर से किए गए बहुआयामी प्रयासों के कारण जब्त किए गए नशीले पदार्थों की मात्रा में लगभग 100% की वृद्धि हुई और इसका कारोबार करने वालों के खिलाफ दर्ज मामलों में 152% की वृद्धि हुई है। आँकड़ों के मुताबिक साल 2006 से 2013 की अवधि के दौरान दर्ज मामलों की संख्या 1,257 थी, जो साल 2014-2023 के दौरान 3 गुना बढ़कर 3,755 हो गई। साल 2006-13 में 1,363 गिरफ्तारियाँ हुईं और साल 2014-23 की अवधि में इनकी संख्या 4 गुना बढ़कर 5,745 हो गई। बीते कुछ सालों में जब्त की गई ड्रग्स की मात्रा दो गुना होकर 3.95 लाख किलोग्राम हो गई, जो साल 2006-13 के दौरान 1.52 लाख किलोग्राम थी। जब्त ड्रग्स की कीमत 30 गुना बढ़कर 22,000 करोड़ रुपये हो गई, जो साल 2006-13 की अवधि में 768 करोड़ रुपये थी।

 मोदी जी की leading और शाह की दूरदर्शिता के कारण एंटी नारकोटिक्स एजेंसियों ने 12,000 करोड़ रुपये की 12 लाख किलोग्राम ड्रग्स को नष्ट करने का अभूतपूर्व काम किया। नशा मुक्त भारत के सपने को साकार करने के लिए ड्रग्स के खिलाफ कार्रवाई करने वाली केंद्रीय और राज्यों की एजेंसियों के बीच बेहतर तालमेल हेतु साल 2019 में चार स्तरीय NCORD तंत्र को भी मजबूत करने का काम किया गया था।

देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर की जनता ने इस सच्चाई को देखा है कि नशामुक्त नए भारत के निर्माण के लिए मोदी सरकार में अमित शाह की रणनीतियों के परिणाम सामने आ रहे हैं।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow