दीक्षांत समारोह में 57 छात्रों को मिला आलिम फाजिल करी व हाफिज की डिग्री

सोमवार की रात मोहल्ला सराय फाटक के बीबी बादी साहिबा ईदगाह के मैदान में आयोजित किया गया।

फ़रवरी 27, 2024 - 19:40

द स्वार्ड ऑफ इंडिया

शिक्षा से ही होगी मुल्क और काम की तरक्की

इस्लाम में नहीं है दहेज लेने और देने की प्रथा

 मोहम्मद शकील 

बलरामपुर । बलरामपुर नगर स्थित जामिया अरबिया अनवारूल कुरआन अरबी डिग्री कॉलेज का 58 वा (दस्तार बंदी ) दीक्षांत समारोह सोमवार की रात मोहल्ला सराय फाटक के बीबी बादी साहिबा ईदगाह के मैदान में आयोजित किया गया। जिसमे अरबी कालेज के 57 छात्रों को फाजिल, आलिम, हाफिज व कारी की डिग्री देकर सभी की दस्तार बांधी गई।

दीक्षांत समारोह का शुभारंभ कारी इकरार ने कुरान- ए-पाक की तिलावत से किया। समारोह के मुख्य वक्ता कलकत्ता से आए मौलाना सैफुल्लाह अलीमी इस्लाम मे दहेज लेना और देना सख्त मना है हम सभी को अपने घरो की बेटी और बेटा की शादी इस्लाम द्वारा बताए गए रीति रिवाज से करना चाहिए जिससे दहेज लेने और देने की गन्दी प्रथा हमेशा के लिए समाप्त हो जाये कुछ लोग शादी में जो दहेज सजाकर उसकी नुमाइश करते है वो सरासर गलत है

अल जामियातुल अशर्फिया मुबारकपुर अरबी यूनिवर्सिटी के शिक्षक मौलाना मोहम्मद नईमुद्दीन अजीजी व बस्ती जिले से आए मौलाना मोहम्मद अली निज़ामी ने मदरसों की शिक्षा के बारे में कहा कि आज भी बहुत से लोगो को यह गलतफहमी है कि मदरसों में सिर्फ इस्लामी शिक्षा की पढ़ाई होती है जबकि बहुत पहले ही मदरसों के छात्र-छात्राओं को इस्लामी शिक्षा देने के साथ-साथ आधुनिक युग की सभी विषयों और कंप्यूटर शिक्षा की पढ़ाई बहुत पहले से ही शुरू कर दी गई है उच्च शिक्षा ही मुल्क व कौम की तरक्की का जरिया है।

बेटों के साथ साथ बेटियों को भी बिना भेदभाव के उच्च शिक्षा जरूर दिलाएं। अरबी कॉलेज के अध्यक्ष हाजी अब्दुल हादी व प्रबंधक डॉ. इकबाल खान ने बताया रात 11 बजकर 55 मिनट पर हुजूर हफीजे मिल्लत का कुल शरीफ हुआ इसके बाद जामिया अरबिया अनवारूल कुरआन अरबी डिग्री कॉलेज के दीक्षांत समारोह में फाजिल के 9, आलिम के 9, हाफिज के 25 व कारी के 14 छात्रों को डिग्री प्रदान की गई है। अरबी कॉलेज के प्राचार्य मौलाना मसीह अहमद कादरी ने बताया कि समारोह के संरक्षक एवं अरबी यूनिवर्सिटी मुबारकपुर के वाइस चांसलर अजीज ए मिल्लत मौलाना अब्दुल हफीज ने डिग्री पाने वाले सभी छात्रों को दस्तार बांधकर और मुल्क में आपसी एकता और मुल्क की तरक्की के लिए दुआ माँगकर समारोह का समापन कर दिया कार्यक्रम का संचालन खलीलाबाद से मौलाना अफरोज निजामी ने किया इस दौरान मुस्लिम धर्मगुरु सैयद अहमद राजा कादरी, कॉलेज के मौलाना मोहम्मद खालिद, शाहिद महमूद, मौलाना कलीम, मौलाना शब्बीर, मौलाना आमान हसन और मौलाना नूर अहमद सहित तमाम लोग मौजूद रहे

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow